Click to view this email in a browser
Kanohar Lal Trust Society
अंक १ अक्टूबर २०१२ नयी पहल खबर कुछ अपनी भी खबर सरकारी ये हुई बात... एक सोच चलते - चलते
Sarthak

Chief Guest

Sh. V.C. Goel
Vice Chancellor, CCS University

Date

4th- 5th November 2012

Venue

KLPG College, Meerut

Main Highlights

Insurance: Make your life easy, Commerce in Daily Life, Amazing world of Tie and Dye, Celebrate festival with creativity, Psychology in Everyday Life, Positive Emotions School, Learn English with us
Know Economics, Change is the basis of Development, सामाजिक- व्यवसायिक प्रदर्शन, वातायन, हस्तकला एवं कुटीर उद्योग
के.एल.पी.जी. : राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद सहकर्मी टीम (NAAC Peer team ) द्वारा दिनांक 22 - 23 अगस्त 2012 को शिक्षक शिक्षा विभाग ( B.Ed) का दौरा कर निरीक्षण किया गया और Grade B और 2.39 GPA के साथ मान्यता प्रदान की I

के.एल.पी.जी. : डिस्प्ले बोर्ड कैसा हो ? उस पर क्या -क्या सूचनाएँ हो तथा सूचनाओं का कैसे आकर्षक ढंग से प्रस्तुतीकरण किया जाए इसी विषय को लेकर अनुशासन परिषद् द्वारा एक प्रतियोगिता का आयोजन किया गया I इस प्रतियोगिता का संयोजन अनुशासन परिषद् की डीन श्रीमती वीणा प्रकाश द्वारा किया गया जिसमे मनोविज्ञान विभाग व पुस्तकालय ने संयुक्त रूप से प्रथम , गृह विज्ञान विभाग ने द्वितीय तथा कैरिएर काउंसिलिंग सेल ने तृतीय स्थान प्राप्त किया I संगीत विभाग , अर्थशास्त्र विभाग एवं राजनीतिशास्त्र विभाग के डिस्प्ले बोर्ड की भी सराहना की गयी I इस प्रतियोगिता का निर्णयक श्रीमती आभा शर्मा तथा श्रीमती सुमनलता ,प्रवक्ता त्रिशला देवी कनोहर लाल बालिका इण्टर कालिज रहीं I

के.एल.पी.जी. : बढ़ते प्रदूषण व भाग - दौड़ के जीवन में अपनी त्वचा व बालों की देखभाल कैसे करें ? इस विषय पर बी .एड की छात्राओं के लिए मेडिकल कमेटी द्वारा एक कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमे मुख्य वक्ता डा. प्रीती मित्तल ने छात्राओं को त्वचा व गिरते बालों की देखभाल के नए - नए तरीके सुझाये I इस कार्यशाला का सयोंजन मेडिकल कमेटी की अध्यक्षा श्रीमती माया गहलोत के निर्देशन में किया गया I इस कार्यशाला का प्रायोजन हिमालया कम्पनी ने किया I

के.एल.पी.जी. :MSME प्रौद्योगिकी विकास केंद्र ( PPDC ) द्वारा आयोजित नि:शुल्क प्रशिक्षण कैंप में लगभग १५० छात्राओं ने डी .टी .पी.तथा कंप्यूटर लेखांकन(टेली के साथ ) के लिए पंजीकरण करवाया I

टी.डी. के. एल. बी .जे. एस : कक्षा 6, 7 व 8 की छात्राओं ने राष्ट्रीय समाचार पत्र ' हिंदुस्तान ' द्वारा आयोजित ‘योग्यता परीक्षण प्रतियोगिता’ में भाग लिया तथा पारले - जी हिंदुस्तान प्रतिभा सम्मान -२०१२ द्वारा सम्मानित किये गए I

टी .डी के .एल.बी इ .का. : कक्षा 9, व 10 की छात्राओं ने राष्ट्रीय समाचार पत्र ' हिंदुस्तान ' द्वारा आयोजित ‘योग्यता परीक्षण प्रतियोगिता’ में भाग लिया तथा पारले - जी हिंदुस्तान प्रतिभा सम्मान -२०१२ द्वारा सम्मानित किये गए I
Sarthak

Chief Guest

Sh. V.C. Goel
Vice Chancellor, CCS University

Date

4th- 5th November 2012

Venue

KLPG College, Meerut

Main Highlights

Insurance: Make your life easy, Commerce in Daily Life, Amazing world of Tie and Dye, Celebrate festival with creativity, Psychology in Everyday Life, Positive Emotions School, Learn English with us
Know Economics, Change is the basis of Development, सामाजिक- व्यवसायिक प्रदर्शन, वातायन, हस्तकला एवं कुटीर उद्योग
शैक्षिक भ्रमण एवं आउटडोर पेंटिंग वर्कशॉप
के.के. कॉलेज: ललित कला परिषद्, मेरठ द्वारा जम्बूद्वीप, हस्तिनापुर में के.के. इंटर कॉलेज के छात्रों के बौद्धिक विकास हेतु शैक्षिक भ्रमण एवं आउटडोर पेंटिंग वर्कशॉप का आयोजन किया गया, जिसमे परिषद् के निदेशक डॉ. समीर कुमार मंडल ने छात्रों को वाटर कलर द्वारा आउटडोर लैंडस्केप पेंटिंग बनाने की तकनीक का विस्तार से प्रशिक्षण दिया तत्पश्चात छात्रों से जम्बूद्वीप परिसर के विभिन्न स्थानों का द्रश्य चित्र बनवाया गया, जो काफी सुन्दर व आकर्षक था I
मेरठ गर्ल्स कैम्पस में सभी वाणिज्य शिक्षकों ने वाणिज्य शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए हाथ मिलाये
के.एल पी जी. की डॉ. रश्मि रानी, श्रीमती अनुषा जयदीप त्रिवेदी , श्रीमती सुरभि गोयल , मिस खुशबू गर्ग , बी . एड विभाग के शिक्षक श्री अमित कुमार शर्मा तथा टी .डी .के .एल .बी आई .सी . की श्रीमती शिल्पी, मिस श्वेता गोयल ने संयुक्त रूप से नयी पहल करते हुए छात्राओं को वाणिज्य विषय तथा इसके व्यावहारिक अनुप्रयोग से सम्बंधित ज्ञान को बढाने की जिम्मेदारी लीI
इस प्रक्रिया में पहला कदम बढ़ाते हुए उन्होंने एक कार्यक्रम का आयोजन किया जिसमे बी.एड की प्रशिक्षु छात्राओं ने टी .डी .के .एल .बी आई .सी . की ११ व १२ की छात्राओं को पॉवर पॉइंट प्रस्तुतीकरण के द्वारा "प्रबंधन क्या है", "वाणिज्य क्या है", "वस्तु विनिमय प्रणाली" "नकद पुस्तक", "लेजर", "अंतिम लेखा", "पुस्तक रखने", "डबल एंट्री सिस्टम" के विषय में विस्तृत जानकारी दी.

बच्चे स्कूल क्यूँ आते हैं ?
डॉ. सीमा श्रीवास्तव (प्रवक्ता, समाजशास्त्र विभाग ,के.एल पी जी ) ने टी .डी .के .एल .बी आई .सी . की दसवीं कक्षा की छात्राओं के साथ ‘लक्ष्य निर्धारण की आवश्यकता एवं महत्व’विषय पर एक वार्ता आयोजित की I सभी छात्राए कला वर्ग से उत्पन्न होने वाले करियर के बारे में जानना चाहती हैं I

बच्चों के लिए शैक्षणिक परामर्श
श्रीमती मोनी चौधरी, (प्रवक्ता,मनोविज्ञान विभाग,के.एल.पी .जी.) टी.डी .के .एल .बी ,जूनियर स्कूल की छठी से आठवीं तक की छात्राओं को सप्ताह में तीन दिन शैक्षणिक परामर्श प्रदान करती हैंI छात्राओं की उत्सुकता देखने योग्य है वह काउंसलर के पास विभिन्न प्रकार की शैक्षिक व व्यक्तिगत समस्याएं ले कर आती हैं I

सूचना संचार प्रौद्योगिकी (ICT) का बढ़ता उपयोग
के.एल.पी.जी.:सूचनासंचार प्रौद्योगिकी के प्रयोग में एक कदम आगे बढ़ाते हुए सोशल नेट वर्किंग साइट 'फेसबुक ' पर एक ग्रुप Creativity का प्रारंभ किया है I इस ग्रुप का प्रारंभ अपनी छात्राओं की रचनात्मकता व स्वरोजगार की क्षमता को बढ़ावा देना के उद्देश्य से किया गया है I इसके अंतर्गत छात्राओं द्वारा निर्मित विभिन्न वस्तुओं को बेचने के लिए ग्राहकों के समक्ष फेसबुक पर उपलब्ध करवाया जायेगा I इस ग्रुप को देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर विसिट करें • http://www.facebook.com/groups/501562373189059/ इस ग्रुप का प्रबंधन मिस देवयानी गर्ग (प्रवक्ता, अर्थशास्त्र विभाग ) कर रही हैं
के.एल.पी.जी. : चित्रकला विभाग ने सूचना संचार प्रौद्योगिकी का अनूठा प्रयोग ११ अक्टूबर ,२०१२ को आयोजित अपनी कला प्रदर्शनी व फ्रेशर पार्टी में किया I विभागाध्यक्ष , डॉ. किरण प्रदीप ने अपने कार्यक्रम के प्रचार - प्रसार के लिए कॉलेज वेबसाइट, एसएमएस और ई - मेल का अच्छी तरह से उपयोग किया
के.एल.पी.जी. : डॉ. रागिनी प्रताप, विभागाध्यक्ष , संगीत विभाग ने राष्ट्रीय चैनल आस्था के लिए भजन की रेकॉर्डिंग की I
टी.डी. के. एल. बी .जे. एस : नयी प्रधानाध्यापिका श्रीमती सुधा शर्मा जी द्वारा पदभार ग्रहण किया गया I
के.एल.पी.जी.:मनोविज्ञान विभाग की प्रवक्ताओं डॉ. सुनीता शुक्ला*, मिस स्मृति यादव*, श्रीमती मोनी चौधरी*, मिस अनुषा चित्रांश**,मिस अंजली जैन ( सेक्रेटरी कैरिएर सर्विसेस)**, श्रीमती अंशु अग्रवाल*** ने दिगम्बर जैन कॉलेज, बरौत द्वारा दिनांक २७ -२८ सितम्बर को Psychological Interventions for Social Well Being विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में प्रतिभागिता की तथा क्रमश:A Study of Social Inequality and Gender difference on Quality of Life of B.P. Patients*,Impact of Family structure and Gender Difference on Well being **तथा Yoga Practice as a facilitator of Mental Health.*** विषय पर अपने - अपने शोध पत्र प्रस्तुत किये I
यूजीसी :विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा नेट / सेट / पीएचडी उम्मीदवारों को नौकरी दिलाने के लिए एक शैक्षिक जॉब पोर्टल का प्रारंभ किया गया है I इस जॉब पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण करवाकर नेट / सेट / पीएचडी उम्मीदवार विश्वविद्यालयों, कॉलेजों और अन्य नियोक्ताओं का ध्यान उनके शैक्षिक प्रोफ़ाइल पर खींच सकते हैं और अपनी मन- पसंद नौकरी पा सकते हैं I

यह जॉब पोर्टल नियोक्ताओं को यह सुबिधा प्रदान करती है की वे इस जॉब पोर्टल पर उपलब्ध उम्मीदवारों के शैक्षणिक प्रोफ़ाइल देख सकें I न्योक्ता अपने यहाँ की नौकरी की रिक्तियों से सम्बंधित विज्ञापन को भी इस पोर्टल पर ब्राउज़ कर सकते हैं I Visit the portal:http://www.ugc.ac.in/jobportal/
सिनोप्सिस डायरी(Synopsis Diary) बनाना गत कई वर्षों से के .एल. पी. जी . कॉलेज की शिक्षिकाओं की नियमित कार्य शैली का हिस्सा रहा है I हर साल नए शैक्षिक सत्र के प्रारंभ में प्रत्येक शिक्षिका अपनी - अपनी सिनोप्सिस डायरी बनाती है I

सिनोप्सिस डायरी क्या है ?
सिनोप्सिस डायरी वार्षिक शैक्षिक पाठ्यक्रम तथा पाठ्यसह्गामी क्रियाओं के निश्चित व उत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए बनाई जाने वाली एक व्यवस्थित पूर्व कार्य योजना है ,जिसका उद्देश्य विस्तृत पाठ्यक्रम को शैक्षिक सत्र के लिए निर्धारित समयावधि के अंदर ही पूर्ण किया जाना होता है I

सिनोप्सिस डायरी का प्रयोग किस प्रकार शिक्षिकाओं के लिए सहायक रहा है ?
  • शिक्षिका क्या पढ़ाना चाहती हैं,उसके लिए एक व्यवस्थित प्रक्रिया अथवा रूपरेखा उपलब्ध कराती है
  • शैक्षिक पाठ्यक्रम की आवश्यकता के अनुरूप दूरदर्शी दृष्टिकोण प्रदान करती हैI शिक्षिका को उनके द्वारा शिक्षण कार्य में प्रयोग में लाई जाने वाली शिक्षण पद्धतियों व प्रविधिओं आदि का पुनरावलोकन करने की सुविधा भी प्रदान करती है जिससे कि उनके प्रयासों की सफलता या असफलता का मूल्यांकन किया जा सके I
  • शिक्षिका को विद्यार्थी केन्द्रित तथा पाठ्य विषय केन्द्रित मूल्यांकन की योजना के निर्धारण में सहायता करती है I
  • शिक्षिका को समय प्रबंधन में सहायता करती है I
  • शिक्षिका को व्यावसायिक प्रतिबद्धता का बोध कराती है I
सिनोप्सिस डायरी का प्रारूप
भाग 1: व्यक्तिगत सूचनाएँ
नाम, शैक्षिक योग्यता , जन्मतिथि , आवासीय पता ( वर्तमान एवं स्थायी ), फ़ोन अथवा मोबाइल नं ., ई - मेल का पता , पदनाम , विभाग , वर्तमान पद पर नियुक्ति की तिथि
भाग 2:व्यक्तिगत समय सारणी
भाग 3: कक्षा एवं विषयवार पाठ्यक्रम( सन्दर्भ पुस्तकों सहित)
भाग 4: साप्ताहिक अथवा मासिक सिनोप्सिस डायरी
माह / सप्ताह कक्षा एवं विषय पाठयक्रम जो पढाया जाना है विषय सम्बन्धी अथवा अन्य गतिविधि कुल व्याख्यान टिप्पणी

Prepared by: Ms. Smriti Yadav,Dept. of Psychology, KLPG
Book Review - Divaswapna
About the Book
The book Divaswapna (Daydreaming) is a unique sample of creative thinking and writing of famous Gujarati educationist Gijubhai Badheka. This book was first published in Gujarati way back in 1932 and later translated into English. It is an inspiring tale of a school teacher who, despite severe odds, tries to make learning fun. Faced with a rowdy and unruly class, he decided to tell them a story.Immediately, there was pin-drop silence. All the children were glued to the story. The school bell rang, but the children insisted and begged, 'Sir, can you make the story longer! We are willing to stay back after school.' This transformation came about not because of the cane of the teacher or the power he wielded, but because he was doing something innately interesting.

One thing that particularly stands out is that although this book is 80 years old but it appears that all the circumstances described are happening in our surroundings whether it be conversation of teachers or parents approach or students’ activity, all is relevant in current scenario.
Why read this book?
In context of the present education system, where emphasis is only on obtaining good grades, this book provides an insight that grades and ranking system is not a healthy practice to nurture a child. The book also brings forth creative methods of teaching like storytelling, games, dictation, poem recitation, drama. The author also strongly opposes any type of corporeal punishment because these things do not allow children to learn, it only increases tension and psychological stress. He also highlights better utilization of available resources, importance of personal hygiene, good rapport among teachers, parents and educational policy makers.
Conclusion
Must read this book once because it teaches, teachers that "The primary purpose of a school is to guide the child’s discovery of his or herself and his/her world and to identify and nurture the child’s talents. Just as each seed contains the future tree, each child is born with infinite potential. So a teacher is a gardener who tries to bring out the potential already present in the child.
Reference
http://www.arvindguptatoys.com/arvindgupta/DH15.pdf
 
Written by: Dr. Sunita Shukla, Head of the Department, Dept of Psychology, KLPG

कनोहर लाल ट्रस्ट सोसाइटी द्वारा प्रकाशित ई - पत्रिका 'संवाद ' एक प्रयास है , अपने समस्त ट्रस्टी , हित -धारकों , शैक्षिक व गैर - शैक्षिक कर्मचारियों के मध्य 'संवाद' स्थापित करने का I अतः आपकी प्रतिक्रिया व बहुमूल्य सुझाव सदैव आमंत्रित हैं और आप उन्हें samvad@kanohar.org पर मेल कर सकते हैं I

निवेदिता बंसल
सम्पादक
Sarthak

Chief Guest

Sh. V.C. Goel
Vice Chancellor, CCS University

Date

4th- 5th November 2012

Venue

KLPG College, Meerut

Main Highlights

Insurance: Make your life easy, Commerce in Daily Life, Amazing world of Tie and Dye, Celebrate festival with creativity, Psychology in Everyday Life, Positive Emotions School, Learn English with us
Know Economics, Change is the basis of Development, सामाजिक- व्यवसायिक प्रदर्शन, वातायन, हस्तकला एवं कुटीर उद्योग